Connect with us

Facts

(Top 50) Psychological Facts in Hindi

Published

on

Psychological Facts in Hindi

यहाँ पर हमने Top 50 Psychological Facts in Hindi बताये है, आपको इन्हे पढ़कर अपने जीवन के बारे में बहुत रोचक तथ्य मिलेंगे।

दुनिया में लोगों का व्यवहार उनके सोचने समझने का तरीका तथा उनके कार्य करने का तरीका हमेशा एक जैसा नहीं होता लेकिन कुछ ऐसे मनोवैज्ञानिक तथ्य होते हैं जिनके अनुसार व्यक्ति उसी रूप में कार्य करता अथवा सोचता है।

मनोवैज्ञानिक रूप से हर व्यक्ति के कुछ खास गुण तथा कुछ खास आदतें होती हैं जिनसे वह प्रेरित रहता है तथा हर समय उसी रूप में सोचने का प्रयास करता है अथवा कार्य करने का प्रयास करता है।

Best Psychological Facts in Hindi

हम यहां पर 50 ऐसे मनोवैज्ञानिक तथ्य जो बहुत ही रोचक तथा आश्चर्यजनक होंगे उनके बारे में बात करेंगे इन तथ्यों के बारे में पढ़ेंगे तो आप पाएंगे कि इनमें से बहुत सारे तथ्यों को आपने खुद अपने जीवन में अनुभव किया है मैंने भी लगभग कई तथ्यों को अपने जीवन में अनुभव किया है।

#1-10 Best Psychological Facts in Hindi

क्या आप जानते हैं कि सोने से पहले आप जिस व्यक्ति के बारे में सोचते हैं, वो आपके दुःख या सुख का कारण होता है ।

क्या आपको पता है कि, जितना ज्यादा आप दूसरों पर ख़र्च करेंगे, उतनी ज्यादा ख़ुशी महसूस होगी ।

मनोविज्ञान के अनुसार आपका पसंदीदा गाना आपका पसंदीदा इसीलिए है क्योंकि आप उससे किसी इमोशनल पल को जोड़ देते हैं ।

कितने आश्चर्यजनक बात है कि स्मार्ट लोग अपने आप को हमेशा कम समझते हैं, जबकि कम समझदार लोग अपने आप को बुद्धिमान समझते हैं ।

क्या आपको ये पता है कि, गाना गाने से डिप्रेशन और घबराहट कम महसूस होती है ।

ये कुछ आशिकों को गलत लग सकता है कि, ‘प्यार’ का हमारे दिल से कोई संबंध नहीं है, यह बस हमारे दिमाग का एक Chemical Reaction है।

हमारा दिमाग किसी ‘Rejection’ को शारीरिक पीड़ा की तरह लेता है ।

जो लोग ज्यादा सोते हैं, वो और भी ज्यादा सोने के लिए तरसते हैं ।

क्या आपने ये चीज अनुभव की है कि, समूह में बात कर रहे 80% व्यक्ति शिकायतें कर रहे होते हैं ।

दुनिया के 60% लोग अपनी नकारात्मक भावना से छुटकारा पाने के लिए संगीत सुनते हैं ।

#11-20 Psychological Facts in Hindi

क्या आपको पता है की, यदि आप अपने पसंदीदा गीत का अलार्म बना लें, तो कुछ दिनों में आप उसे नापसंद करने लगेंगे ।

साथयों आपको जानकर आश्चर्य होगा कि, आज-कल तनाव का स्तर इतना ज्यादा बढ़ गया है, कि इस समय हाईस्कूल के बच्चों में बेचैनी का स्तर उतना है, जितना 1950 के दशक के आरंभ में औसत मनोरोग रोगियों में हुआ करता था ।

क्या आपको पता है कि आपके चेहरे के बाद, जूते दूसरी ऐसी चीज है, जहां ज्यादातर लोगों की नजर सबसे पहले जाती है ।

दुनिया के 85% लोग सोने के पहले प्लान्स के बारे सोचते हैं, जो वे अपनी ज़िंदगी में करना चाहते हैं।

Travel करना Heart Attack के खतरे को कम करता है, और इंसान के दिमाग को boost करता है।

आपको जानकारी भी है की, सूर्य के प्रकाश में अधिम समय बिताने वाले लोग तनाव या अवसाद के शिकार कम होते हैं।

व्यस्त रहने पर लोग अधिक ख़ुश रहते हैं, क्योंकि व्यस्तता उन्हें जीवन की नकारात्मक चीजों के बारे में सोचने से रोकती है।

माता-पिता लगभग 500 से 700 घंटे की नींद खो देते है, जब तक की उनका बच्चा 1 साल का नहीं होता।

छोटी-छोटी बातों पर चिड़चिड़ा जाने या नाराज़ हो जाने वाले व्यक्ति से सामना हो, तो समझ जायें कि उसे आपके प्यार और साथ की ज़रूरत है।

जिन व्यक्तियों में आत्म-विश्वास की कमी होती है, वे दूसरों की कमियाँ निकालने में माहिर होते हैं।

#21-30 Psychological Facts in Hindi

90 % लड़कियां अपनी उम्र बताने में संकोच करती हैं।

लडकिया लड़को के मुकाबले अधिक झूठ बोलती हैं।

जो लड़कियां अधिक सुंदर होती हैं, वो ज्यादातर single होती हैं, क्योंकि अक्सर लड़के ऐसी लड़कियों को देख कर यह सोचते हैं कि इसका B.F होगा।

मनोविज्ञान के अनुसाए ज्यादातर लड़कियों को shopping करना और makeup करना अच्छा लगता हैं।

लड़कियां लड़कों के मुकाबले अधिक भावुक होती हैं, जिस कारण वह अपने जीवन मे लड़को के मुकाबले अधिक दुखी रहती हैं।

लड़कियों को अपनी तारीफ सुनना पसंद होता हैं, कोई लड़का उनके सामने किसी लड़की की तारीफ करें, यह उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं।

लड़कियों को अक्सर वो लड़के पसंद आते हैं, जो अपने भविष्य को लेकर सजक होते हैं।

मनोवैज्ञानिको के अनुसार लड़कियां अपनी सोच से विपरीत कार्य करती हैं, जिस कारण उन्हें समझ पाना अत्यंत मुश्किल होता हैं।

लड़कियों को ऐसे लड़के बहुत पसंद आते हैं जो उनकी बहुत care करते हैं। लड़कियों की नजर में अपने को अच्छा सिद्ध करने के लिए आपको निरंतर उनको विश्वास दिलाने की आवश्यकता होती हैं, इसलिए कभी-कभी यह इंतजार काफी लंबा हो जाता हैं।

लड़कियां अपने भावों को छुपा नहीं पाती, अक्सर जब कोई लड़की दुखी होती हैं तो वह अकेले रहना और कम बोलना पसंद करती हैं।

#31-40 Psychological Facts in Hindi

हम अपने दिमाग का उपयोग 1-3% तक ही कर पाते हैं।

किसी के संबंध में अधिक विचार करने से उसकी छवि हमारे दिमाग मे स्थायी रूप से विद्यमान हो जाती हैं।

किसी क्रिया या परिस्थिति के बारे में ज्यादा सोचने से हम पुरानी बातें भूलने लगते हैं।

हमारा मस्तिष्क उन्ही बातों को स्मरण रखता हैं, जो हमारे लिए अधिक सुखदायी होते हैं।

हमारा दिमाग अकसर उन लोगों के बारे में ज्यादा सोचता हैं, जिन्हें हम खुद से ऊपर या श्रेष्ठ समझते हैं।

हमारा दिमाग अक्सर नई-नई चीजों को देखना एवं नए विचारों को अर्जित करना पसंद करता हैं।

मनोविज्ञान के अनुसार किसी आदत को बनाने या छोड़ने में हमारे 21 दिन अति-महत्वपूर्ण होते हैं।

कभी-कभी हमें ऐसा लगता हैं कि हम किसी के बारे में सोच या विचार कर रहे हैं। पर वास्तव में हमें यह पता नही होता कि हम किसके बारे में सोच और विचार कर रहे हैं।

मनोविज्ञान के अनुसार हमारा मस्तिष्क sex के अभाव में depression में जाने लगता हैं। यह हमारे स्वस्थ मस्तिष्क हेतु अति आवश्यक हैं।

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति एक-दूसरे की चुगली करता हैं किसी न किसी से। यहाँ तक कि जो उसका प्रिय होता हैं वह उसकी बातें दूसरों से अधिक शेयर करता हैं।

#41-50 Psychological Facts in Hindi

प्यार में पड़ने पर व्यक्ति अक्सर उसी के ख्यालों में खोए रहने एवं उसी इंसान के संबंध में अपने विचार व्यक्त करने में रुचि लेता हैं।

प्यार में पड़ने वाले लोग अक्सर आलसी और emotional होते हैं।

प्यार में व्यक्ति अक्सर सही और गलत के मध्य भेद नही कर पाता। जिस कारण वह धोखा खाता हैं।

दो प्रेमी जब कभी आपस में मिलते हैं तो उनके दिमाग मे अन्य किसी से संबंधित विचार नही आते बल्कि वह उस समय भी एक-दूसरे के संबंध में ही विचार करते हैं।

मनोविज्ञान के अनुसार अपने प्यार का इजहार सबसे पहले लड़के करते हैं क्योंकि वो अपनी feelings को अधिक समय तक छुपाने में असमर्थ होते हैं।

मनोविज्ञान के अनुसार जब कोई लड़का या लड़की प्यार में धोखा खाते हैं तो वह बुरी संगत की ओर ज्यादा प्रभावित होने लगते हैं।

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार love marriage के success होने के chance बहुत कम होते हैं, क्योंकि प्यार में व्यतीत किये समय मे अक्सर लोग दिखावा करना पसंद करते हैं। जिस कारण वह एक-दूसरे को अच्छी तरह नहीं जान पाते।

लड़के अकसर लड़कियों के मुकाबले कम emotional होते हैं, जिस कारण सच्चे प्यार में अक्सर लड़को से ज्यादा दुख लड़कियों को होता हैं।

मनोविज्ञान के अनुसार Attraction वाला प्यार ज्यादा से ज्यादा 2 या 3 महीने ही टिक पाता हैं। वह जितनी जल्दी होता हैं उतनी ही जल्दी खत्म भी हो जाता है।

चाहें हम पूरे दिन कितनी भी लड़कियों से flert करें लेकिन रात को सोने से पहले हम उस लड़की के बारे में जरूर सोचते हैं, जिससे हम सच्चा प्यार करते हैं।


यह भी पढ़ें


Conclusion

हमने यहां पर आपको बेस्ट मनोवैज्ञानिक फैक्ट बताएं जिनके बारे में जानकर आप मैं बहुत कुछ जाना होगा और जानकारी इकट्ठे की होगी।

हमें यहां पर दिमाग के बारे में मनोवैज्ञानिक तथ्यों, संबंध के बारे में मनोवैज्ञानिक तथ्यों, तथा प्यार के मनोवैज्ञानिक तथ्यों के बारे में बात की।

प्यार पर साइकोलॉजी फैक्ट बताएं।

दो प्रेमी जब कभी आपस में मिलते हैं तो उनके दिमाग मे अन्य किसी से संबंधित विचार नही आते बल्कि वह उस समय भी एक-दूसरे के संबंध में ही विचार करते हैं।

रिलेशनशिप पर साइकोलॉजी फैक्ट बताएं।

मनोविज्ञान के अनुसार Attraction वाला प्यार ज्यादा से ज्यादा 2 या 3 महीने ही टिक पाता हैं। वह जितनी जल्दी होता हैं उतनी ही जल्दी खत्म भी हो जाता है।

एक अच्छा साइकोलॉजी फैक्ट।

चाहें हम पूरे दिन कितनी भी लड़कियों से flert करें लेकिन रात को सोने से पहले हम उस लड़की के बारे में जरूर सोचते हैं, जिससे हम सच्चा प्यार करते हैं।

दिमाग पर साइकोलॉजी फैक्ट बताएं।

जिन व्यक्तियों में आत्म-विश्वास की कमी होती है, वे दूसरों की कमियाँ निकालने में माहिर होते हैं।

लड़कियों पर साइकोलॉजी फैक्ट बताएं।

लड़कियों को अपनी तारीफ सुनना पसंद होता हैं, कोई लड़का उनके सामने किसी लड़की की तारीफ करें, यह उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं।

Trending